अखिलेश आधे-अधूरे प्रोजेक्ट्स को दिखा रहे हरी झंडी

17
SHARE
सोमवार को सीएम अखिलेश यादव ने आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का इनॉगरेशन किया। इस इनॉग्रेशन पर मायावती ने कहा कि आधी-अधूरे प्रोजेक्‍ट्स का इनॉगरेशन चुनाव को देखते हुए किया जा रहा है। बता दें, अक्टूबर 2016 से सीएम लगातार कई योजनाओं का इनॉग्रेशन कर चुके हैं, जिसमें कई अब भी अधूरे हैं। कई जगह काम चल रहा है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि सीएम जनता के बीच अपने विकास कार्यों को लेकर जाना चाहते हैं, जिससे डेवलपमेंट के नाम पर वे लोगों के वोट बटोर सकें।
कहां से कहा तक- लखनऊ से आगरा
लागत- 16 हजार करोड़ रुपए
दूरी- 302 किमी
चौड़ाई- 110 मीटर
शिलान्यास- 23 नवंबर 2014
इनॉगरेशन- 21 नवंबर 2016
ये प्रोजेक्‍ट 22 महीने में पूरा हुआ है, लेकिन हकीकत ये है कि अभी भी साइन बोर्ड, डिवाइडर, डिफर लाइन, सर्विस लेन और सड़क पर कट जैसी चीजों का काम चल रहा है। 2014 के लोकसभा चुनाव में आचार सहिंता लगने से 10 दिन पहले ही अखिलेश ने 10 हजार करोड़ रुपए की योजनाओं का शिलान्यास किया था। लेकिन मोदी की आंधी में ये पैंतरा काम नहीं आया। फिलहाल अखिलेश खुद को विकास पुरुष साबित करने में लगे हैं और जनता को विकास की परिभाषा बता रहे हैं, लेकिन इसे जनता कितना समझती है, ये चुनाव का रिजल्ट बताएगा|अगर अखिलेश सरकार की वापसी होती है तो ठीक है। लेकिन अगर दूसरी सरकार आई तो उस पर बोझ बढ़ जाएगा सरकार अधूरी योजनाओं को अगले बजट से पूरा करेगी तो दूसरी जनहित की योजनाओं से उसे कटौती करनी पड़ेगी|