एक टांग गंवाने के बाद गिरीश शर्मा ने बैडमिंटन में किया देश का नाम रौशन

34
SHARE

बचपन में एक ट्रेन हादसे में अपना एक पैर गंवाने वाले गिरिश आज बैडमिंटन कोर्ट पर देश का नाम रौशन कर रहे हैं. उन्हें पहली सफलता अपनी कुछ महीनों की कड़ी मेहनत के बाद मिली. जब उन्होंने दिव्यांग खिलाड़ी के लिए आयोजित होने वाली नेशनल चैंपियनशिप में हिस्सा लेते हुए पहली बार में ही दो गोल्ड मेडल जीत लिया. इस उपलब्धि ने उन्हें भविष्य में अन्य बड़े टूर्नामेंट में मेडल जीतने की उम्मीद दी. इस उम्मीद के साथ ही उन्होंने दिन रात की मेहनत के साथ अपने खेल को हर दिन और बेहतर करना शुरू किया.

गिरीश को अपने बेहतर खेल की वजह से ही इजराइल और थाईलैंड में देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला. उन्होंने इस मौके को भुनाते हुए इजराइल में सिंगल और डबल मैच में दो सिल्वर मेडल जीते. उन्होंने अपनी मेहनत से पारालंपिक्स एशिया कप में गोल्ड मेडल भी जीता.

आर्थिक रूप से कमजोर होने के बाद भी गिरिश ने कभी मेहनत करने और अपने खेल को बेहतर करने में कभी कोई कोर कसर नहीं छोड़ी. इसी का नतीजा है कि आज भी उनके साथ खेलने वाले लोग उनकी प्रतिभा से खासे प्रभावित हैं.