योगी सरकार अब मायावती के स्मारकों की देखभाल करेंगी, बजट पास

13
SHARE

यूपी की पूर्व सीएम मायावती के बनवाए स्मारकों को अब 10 करोड़ की लागत से संवारा जाएगा। इसके लिए शासन ने बजट भी पास कर दिया है। फिलहाल पार्कों में लाइटों को सही किया जा रहा है।

मायावती के बनाए इन स्मारकों पर पूरे पांच साल बाद यूपी सरकार का ध्यान गया है। इसके लिए सीएम योगी ने आदेश भी जारी कर दिया है। सीएम के आदेश और बजट जारी होने के बाद से ही स्मारकों में काम भी शुरू हो गया है। एलडीए व स्मारक समिति ने सबसे पहले स्मारकों और पार्कों की लाइटें दुरुस्त करना शुरू किया है।

इसी कड़ी में कांशीराम स्मारक में खराब पड़ी लाइटों को बदलवाने का काम चल रहा है। हालांकि कई कामों के टेण्डर होने हैं, जिसका स्मारक समिति ई टेण्डरिंग कराएगी। अभी केवल कुछ जरूरी काम किए जा रहे हैं, जिससे स्मारक की रौनक फिर से वापस आ सके।

मायावती के स्मारकों के मेंटिनेंस का बजट केवल दो दिन में ही शासन ने जारी कर दिया। एलडीए उपाध्यक्ष ने जिस दिन स्मारकों के मेंटिनेंस के बजट के संबंध में लेटर भेजा था उसके ठीक दो दिन बाद बजट जारी हो गया। स्मारक समिति के अधिकारियों का कहना है कि इतनी तेजी से आज तक बजट पास नहीं हुआ।
यहां होगा काम

#कांशीराम इको ग्रीन गार्डेन
#कांशीराम स्मारक
#बौद्ध विहार शान्ति उपवन
#स्मृति उपवन
#रमाबाई रैली स्थल
#डॉ. भीम राम अम्बेडकर स्मारक व पार्क
#अम्बेडकर गोमती पार्क व अन्य

एलडीए सचिव सीमा सिंह ने कहा, स्मारकों को दुरुस्त करने के लिए शासन से बजट जारी हो गया है। 10 करोड़ रुपए से स्मारकों को संवारा जाएगा। इसके लिए जल्द ही टेंडर भी निकाले जाएंगे।

इससे पहले मायावती ने भी स्मारकों के देखभाल की बात उठाई थी। मायावती ने कहा था- ”अगर योगी कांशीराम जी को लेकर ज्यादा चिंतित हैं तो उन्हें कांशीराम जी के स्मारकों की देखभाल सुनिश्चित करनी चाहिए। लापरवाही के चलते कांशीराम और भीमराव अम्बेडकर के मेमोरियल बेहद खराब स्थिति में पहुंच गए हैं। पिछले कुछ साल में यूपी की सरकारों ने इनकी देखभाल के लिए कुछ भी नहीं किया।”