कासगंज में श्रद्धालुओं से भरी बस खाई मे, तीन की मौत, तीन दर्जन घायल

20
SHARE

आज तड़के कासगंज में गंगा नदी में स्नान करने के बाद लौट रहे श्रद्धालुओं से भरी बस के पलटने से बड़ी दुर्घटना हो गई। जहाँ तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि तीन दर्जन लोग घायल हैं। घायलों में 14 की हालत बेहद गंभीर है। जिनमें से गम्भीर 14 को अलीगढ़ रेफर किया गया है।

गंगा नदी के कछला घाट से जलेसर लौट रहे श्रद्धालुओं से भरी बस सोरों तथा कछला के बीच गोलाकुआं पर पलट गई।

हादसे की जानकारी मिलते ही डीएम आरपी सिंह व अपर पुलिस अधीक्षक पवित्र मोहन त्रिपाठी, उपजिलाधिकारी देवेंद्र प्रताप, तहसीलदार नन्ने राम अन्य अधिकारी मौके पर पहुंच गए और राहत कार्य कराया। जनपद एटा की कोतवाली जलेसर के गांव सरसनी से करीब 50 श्रद्धालु कल शाम को गंगा स्नान करने सोरों और कछला गंगा घाट पर आए थे। यहां स्नान और धार्मिक अनुष्ठान कर श्रद्धालुओं से भरी बस रात गांव की ओर लौट रही थी।

बस कछला से निकलकर दो किलोमीटर दूर पहुंची थी कि गोलाकुआं के पास बस के चालक को झपकी आ गई। बस खाई में जा गिरी। श्रद्धालुओं की चीख पुकार सुनकर आसपास से गुजर रहे वाहनों के लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। इस पर जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। मौके पर डीएम आरपी सिंह, प्रभारी एसपी पवित्र मोहन त्रिपाठी एंबुलेंसों के साथ दौड़ पड़े। इससे पहले कोतवाली प्रभारी रिपुदमन सिंह, सीओ वीर सिंह वीर पुलिस बल के साथ मौके पर पहुँच गए थे। यहां से घायलों को जिला अस्पताल भेजा गया। गंभीर रूप से घायल श्रद्धालुओं को अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज भेजा गया।

प्रभारी एसपी पवित्र मोहन त्रिपाठी ने बताया कि हादसे में कालकलवित हुए छोटू पुत्र रामेश्वर निवासी पिलखुन जलेसर, अंगूरी देवी पत्नी कालीचरण एटा, रामकली पत्नी कमल सिंह, गांव हाड़ा आगरा का पोस्टमार्टम कराया गया है। गम्भीर घायल मलखान, गोकुल, कस्तूरी, नरेंद्र, ओमवती को अलीगढ रेफर किया गया है।