लाहौर में धमाके से 7 लोगों की मौत, 19 घायल

7
SHARE

पाकिस्तान के लाहौर में एक रेस्तरां में धमाका हुआ जिसमें सात लोगों की मौत और 19 लोग घायल हुए हैं| डिफेंस इलाका काफी व्यस्त है और यहां बहुत सारे ऑफिस रहते है

पाकिस्तान से लगातार धमाकों की खबरें आ रही हैं|पिछले मंगलवार को ही खैबर पख्तूनख्वाह प्रांत में एक अदालत के बाहर आतंकियों द्वारा किए गए आत्मघाती विस्फोट और गोलीबारी में कम से कम छह लोग मारे गए और 14 लोग घायल हो गए| पुलिस के मुताबिक -खैबर पख्तूनख्वा के चारसद्दा जिले में अदालत के बाहर सुरक्षाबलों ने तीन आत्मघाती बम हमलावरों को मार गिराया था| तीन हमलावरों ने तांगी शहर स्थित अदालत परिसर में मुख्य द्वार के रास्ते दाखिल होने की कोशिश की| उन्होंने गोलीबारी की और ग्रेनेड फेंके| इसके बाद वहां तैनात सुरक्षाबलों ने जवाबी गोलीबारी की|अधिकारियों ने कहा कि दरवाजे पर हुई गोलीबारी में एक बम हमलावर मारा गया और दूसरे को अदालत में दाखिल होने पर मार गिराया गया|तीसरे बम हमलावर ने खुद को विस्फोटकों से उड़ा लिया|

इससे पहले पाकिस्तानी प्रांत सिंध के सहवान में लाल शाहबाज कलंदर सूफी दरगाह पर आईएसआईएस के आत्मघाती हमलावर द्वारा किए गए विस्फोट में 88 लोगों की मौत हो गई थी और करीब 250 लोग घायल हो गए थे| हमलावर ‘सुनहरे गेट’ से दरगाह के भीतर दाखिल हुआ और पहले उसने ग्रेनेड फेंका लेकिन वह नहीं फटा| पुलिस के अनुसार यह धमाका सूफी रस्म ‘धमाल’ के दौरान हुआ| विस्फोट के समय दरगाह परिसर के भीतर सैकड़ों की संख्या में जायरीन मौजूद थे|

सहवान के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने कहा, ‘उसने अफरा-तफरी मचाने के लिए पहले ग्रेनेड फेंका और फिर खुद को उड़ा लिया.’ साल 2005 से देश की 25 से अधिक दरगाहों पर हमले हुए हैं| सप्ताह में गुरुवार के दिन बड़ी संख्या में लोग दरगाह जाते हैं. लाल शाहबाज कलंदर सूफी दार्शनिक-शायर थे| सूफी दरगाह पर यह हमला उस वक्त हुआ है जब एक दिन पहले ही पाकिस्तान सरकार ने देश में आतंकी हमलों में हुई बढ़ोतरी को देखते हुए उन सभी तत्वों को ‘मिटाने’ का संकल्प लिया था जो देश में शांति एवं सुरक्षा पर खतरा पैदा कर रहे हैं| प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने देश में सुरक्षा हालात की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय सुरक्षा बैठक की थी जिसमें यह फैसला लिया गया था|