इलाहाबाद में दिमागी बुखार के कारण 15 दिन में छह बच्चों की मौत

40
SHARE

दिमागी बुखार तेजी से फैल रहा है। बैक्टीरिया जनित बीमारी अत्यंत सूक्ष्म जीवों से फैलती है। इससे सबसे ज्यादा दिक्कत बच्चों और बुजुर्गों को हो रही है। इससे सिर में तेज दर्द व बुखार हो जाता है।

सरकारी व निजी अस्पतालों में आने वाले बच्चे मेनिन्जाइटिस बुखार से पीड़ित हैं। जिनमें शहर के साथ ग्रामीण क्षेत्र के भी हैं। गंभीर अवस्था में कई बच्चों को भर्ती किया गया। बेड कम पड़ने से एक में दो को लिटाकर इलाज किया जा रहा है। सरोजनी नायडू बाल चिकित्सालय में बीते तीन दिनों में दिमागी बुखार से पीड़ित 12 बच्चें भर्ती हुए हैं जिसमें अधिकतर की स्थिति गंभीर है। कुछ को चिकित्सकों ने वेंटीलेटर पर रखा हुआ है।

दिमागी बुखार के चलते 15 दिनों में छह बच्चों की जान जा चुकी है। इसमें राकेश (3), इमरान (4), समीर (2), जावेद (4), बृजेश (1), मोंटू (3), सोनू (3) की इलाज के दौरान मौत हुई है। मृतकों में अधिकतर बच्चे ग्रामीण क्षेत्रों के हैं, जिन्हें समय पर उचित इलाज नहीं मिल पाया।

सरोजनी नायडू बाल चिकित्सालय में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. राकेश चंद्रा का कहना है कि खानपान ठीक न होने, किसी बीमारी से कमजोरी, कम वजन वाले एवं कुपोषित बच्चों में दिमागी बुखार तेजी से फैलता है। बच्चों में यह बीमारी फेफड़े और ब्लड से होते हुए शरीर के विभिन्न अंगों खासकर सीधे दिमाग में फैलती है।

डॉ. अर्पणधर दुबे बताते हैं कि गर्मी में बच्चों में डिहाइड्रेशन व बुखार आदि की समस्या बढ़ जाती है, जिससे वह कमजोर हो जाते हैं। बच्चों को मच्छरों से बचाना चाहिए। दिमागी बुखार से पीड़ित बच्चे में मंदबुद्धि, बहरा-अंधा होने अथवा अन्य अंगों से कमजोर होने का खतरा रहता है।

source-DJ