30 दिसंबर तक एक खाते में 5000 से ज्यादा के पुराने नोट एक बार ही होंगे जमा

4
SHARE

। रिजर्व बैैंक ने सोमवार को एक अधिसूचना जारी कर 30 दिसंबर, 2016 से पहले बैैंक खाता में 5,000 रुपये के पुराने नोट को जमा करने में भी तमाम अड़चनें पैदा कर दी है। पांच हजार रुपये से ज्यादा राशि जमा कराने पर आपसे बैैंक के न सिर्फ दो अधिकारी पूछताछ करेंगे बल्कि उनके सवालों का संतोषप्रद जवाब देने पर ही आपको राशि जमा करने दी जाएगी। यही नहीं अगर आप 5 हजार से कम राशि कई बार जमा करते हैैं तब भी यह पूछताछ की जाएगी|

मजेदार तथ्य यह है कि आरबीआइ ने इस बारे में जो नया नियम लागू किया है वह उनके लिए नहीं है जो पीएम गरीब कल्याण योजना, 2016 के तहत पुराने नोट जमा कराना चाहते हैैं। यानी काला धन जमा करने वाले अपने खाते में मर्जी के मुताबिक कितनी भी राशि जमा करा सकते हैं। हालांकि उन्हें बाद में आय कर व जुर्माने की राशि देनी होगी। लेकिन आम जनता जिसने बैैंकों में भीड़ वगैरह की वजह से अभी तक पुराने नोट नहीं जमा करा सके हैैं उनके लिए पांच हजार रुपये भी जमा कराना जुर्म के बराबर होगा। यानी उनसे पूछताछ होगी और उसका रिकार्ड रखा जाएगा|

आरबीआइ ने कहा है कि 30 दिसंबर, 2016 तक बैैंक खाते में 5,000 रुपये से ज्यादा राशि सिर्फ एक बार जमा कराई जा सकेगी। वह भी बैंक के दो अधिकारियों के सवाल जवाब से गुजरने के बाद। ग्र्राहकों से की गई बातचीत को बैैंक रिकार्ड में रखेंगे ताकि बाद में उसे जांच के लिए इस्तेमाल किया जा सके। जिस खाते में केवाईसी प्रक्रिया पूरी नहीं की गई है उसमें सिर्फ 5000 रुपये की राशि ही जमा की जाएगी। वैसे आरबीआई का यह दिशा निर्देश अपने आप में ही काफी विरोधाभाषी है कि जिस खाते में केवाईसी की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है उसमें अधिकतम 50 हजार रुपये के पुराने नोट ही कराए जा सकते हैं। जबकि, केवाईसी हो चुके खाते में जमा की जानेवाली राशि की कोई अधिकतम सीमा तय नहीं की गई है|