500 करोड़ के घोटाले का पर्दाफाश, और फिर एसपी गौरव तिवारी का तबादला?

38
SHARE
एसपी गौरव तिवारी का तबादला कई सवाल छोड़ गया है। सरकार के इस फैसले के खिलाफ विभिन्न राजनैतिक संगठनों, समाजसेवी संगठनों, स्कूल-कॉलेज के विद्यार्थियों व महिला संगठन मंगलवार को सड़क पर उतर कर अपना विरोध जताएंगे।एस के मिनरल्स में हुए फर्जीवाड़े, बोगस खातों के जरिए हवाला कारोबार, उसमें सरागवी बंधुओं की भूमिका, डीडी कांड व शराब तस्करी की रोज उधड़ती परतों के बीच जिस तरह से अचानक कटनी एसपी गौरव तिवारी का तबादला?
हालांकि गौरव को छिंदवाड़ा जैसा बड़ा जिला मिला है, लेकिन कटनी की जनता के गले सरकार का यह फैसला नहीं उतर रहा |कांग्रेस से बहोरीबंद विधायक सौरभ सिंह ने हवाला कांड में राज्यमंत्री संजय पाठक से इस्तीफे तक की मांग की है और कहा है कि इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस सड़क पर उतरेगी।वहीं एक आरटीआई एक्टीविस्ट राजू गुप्ता ने इस फैसले के खिलाफ परिवार सहित आत्मदाह की धमकी दी है|
गौरव तिवारी वो आईपीएस अधिकारी हैं जिन्होंने एक्सिस बैंक में देश के सबसे बड़े 600 करोड़ के हवाला घोटाला कांड के खुलासे में मुख्य भूमिका निभाई है।जब इस घोटाले की सारी असलियत सामने आ रही थी तब ही आईपीएस तिवारी का तबादला कर छिंदवाड़ा भेजना और उनकी जगह मुख्यमंत्री की सुरक्षा में पूर्व में पदस्थ रहे और वर्तमान में देवास के एसपी शशिकांत शुक्ला को कटनी में पदस्थ किया जाने का फैसला कई सवाल खड़े कर रहा है|
यहां यह भी उल्लेखनीय है कि गौरव तिवारी वही अधिकारी हैं जिन्होंने बालाघाट में लकड़ी माफिया के खिलाफ जंग छेड़ी दी थी जिसमे तत्कालीन कलेक्टर वी किरण गोपाल का नाम का भी खुलासा हुआ था।साथ ही भोपाल से आई एक आईजी स्तर की सिफारिश को वायरल करने के चलते आईजी को पद से हटना पड़ा था।आईपीएस गौरव तिवारी एक कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार छवि के माने जाते हैं।बार-बार तबादला करने से अधिकारियों का हौसला टूट सकता है इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है|