जलीकट्टू के समर्थन में मरीना बीच पर 50 हजार लोग

9
SHARE

जलीकट्टू के समर्थन में मरीना बीच पर समर्थकों की संख्या 50 हजार के पार पहुंच चुकी है| आज राज्य में कई कॉलेज बंद रहेंगे और प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने स्कूलों को बंद करने का ऐलान किया है|

जलीकट्टू के मुद्दे पर तमिलनाडु के सीएम पन्नीरसेल्वम ने कहा कि राष्ट्रपति की अनमुति के बाद एक से दो दिन में सरकार अध्यादेश जारी करेगी। उन्होंने प्रदर्शनकारियों से तत्काल विरोध-प्रदर्शन वापस लेने की अपील की है। जलीकट्टू के मुद्दे पर आज तमिलनाडु में कई संगठनों ने बंद बुलाया है। जिसे विपक्ष ने भी समर्थन दिया है। इस मद्देनजर में राज्य में प्राइवेट टैक्सियां, ऑटो, लॉरी अौर थियेटर्स बंद रहेंगे। दूसरी तरफ पूरी फिल्म इंडस्ट्री भूख हड़ताल पर बैठेगी जिसमें कमल हसन और रजनीकांत के भी जुड़ने की खबर है साथ ही संगीतकार ए.आर रहमान उपवास पर रहेंगे।

डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष स्टालिन मंबालम रेलवे स्टेशन पर जलीकट्टू के समर्थन में रेल रोकेंगे, वहीं कनिमोझी एग्मोर स्टेशन पर रेल रोको अभियान का अगुवाई करेंगी। इसके अलावा दक्षिण भारत कलाकार संगठन ने जलीकट्टू का समर्थन करते हुए आंदोलन में शामिल होने का फैसला किया है। सद्गुरु जग्गी वसुदेव ने कहा कि इस त्योहार में सांड आपस में लड़ते नहीं हैं बल्कि वो खुद इसका आनंद लेते हैं| उधर मद्रास हाईकोर्ट वकील संघ ने जलीकट्टू पर प्रतिबंध हटाने के लिए राज्यभर में हो रहे प्रदर्शनों के समर्थन में आज अदालतों का बहिष्कार करने की घोषणा की है|

संघ के अध्यक्ष जी मोहनकृष्णन ने हालांकि यह स्पष्ट किया कि यह बहिष्कार सांडों को काबू में करने के वाषिर्क खेल पर प्रतिबंध लगाने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ नहीं है बल्कि पशु अधिकार संगठन पेटा के खिलाफ है जो जल्लीकट्टू का विरोध कर रही है। तमिलनाडु में जलीकट्टू खेल के आयोजन पर लगे प्रतिबंध को हटाने की मांग को लेकर चल रहा आंदोलन अब श्रीलंका, ब्रिटेन और आस्ट्रेलिया तक पहुंच गया है जहां तमिल प्रवासियों ने गुरुवार को प्रदर्शन किया। आस्ट्रेलिया के मेलबर्न शहर में भी इस मामले को लेकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन का आयोजन किया गया। सिडनी में आज प्रदर्शन किया जाना है|