49 सीटों पर दोपहर 1 बजे तक 37.9 फीसदी वोटिंग

9
SHARE

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के छठे चरण में पूर्वांचल की सात जिलों की 49 सीटों के लिए मतदान जारी है. वोटिंग के शुरुआती दौर में सुबह 9 बजे तक 11.2 फीसदी मतदान दर्ज किया गया, जबकि सुबह 11 बजे तक 23.3 प्रतिशत वोटिंग दर्ज की गई. दोपहर 1 बजे तक 37.9 फीसदी वोटिंग दर्ज की गई|

सुबह 7 बजे से ही लोगों में मतदान के प्रति उत्‍साह दिखा अौर मतदान केंद्रों पर वोटर बड़ी संख्‍या में पहुंचते दिखे. हालांकि कुछ जगह मतदाताओं के वोटर लिस्‍ट से नाम गायब होने और पोलिंग बूथों पर ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की खबरें सामने आई. मतदान शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा है और कहीं से किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है|

छठे चरण में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के लोकसभा क्षेत्र आजमगढ़ के अलावा नेपाल से सटे महाराजगंज और कुशीनगर के साथ-साथ गोरखपुर, देवरिया, मऊ तथा बलिया जिलों की 49 सीटों पर मतदान हो रहा है. मतदान शाम पांच बजे तक चलेगा. इस चरण में भाजपा के हिन्दुत्ववादी नेता सांसद योगी आदित्यनाथ के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र गोरखपुर और माफिया-राजनेता मुख्तार अंसारी के क्षेत्र मउ तथा केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र के संसदीय क्षेत्र देवरिया में चुनाव पर खास नजर रहेगी.मऊ के नसीरपुर गांव में मतदान केंद्र संख्‍या-273 पर ईवीएम मशीन में गड़बड़ी के चलते मतदान प्रकिया बाधित हुई. वहीं, कुछ मतदान केंद्रों पर वोटरों को दिक्‍कतों का सामना भी करना पड़ा. गोरखपुर में मतदान केंद्र संख्‍या-3705 पर मतदान के लिए पहुंची एक युवा मतदाता ने शिकायत करते हुए बताया कि जब वह यहां वोट डालने पहुंचीं तो वोटर लिस्‍ट से उनका नाम ही गायब मिला. इस कारण वे वोट ही नहीं डाल पाई हैं|

पीएम नरेंद्र मोदी ने भी सुबह ट्वीट कर मतदाताओें से अपील की कि वे भारी उत्साह के साथ लोकतंत्र के उत्सव में शामिल हों और मतदान अवश्य करें.635 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
छठे चरण में 77 लाख 84 हजार महिलाओं समेत करीब एक करोड़ 72 लाख 86 हजार 327 मतदाता 63 महिलाओं सहित कुल 635 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे. इसके लिए 10 हजार 820 मतदान केंद्र तथा 17 हजार 926 मतदेय स्थल बनाए गए हैं. इनमें से 1,186 मतदान केंद्रों को संवेदनशील माना गया है. मतदान को स्वतंत्र एवं निष्पक्ष ढंग से संपन्न कराने के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिस तथा केंद्रीय बल तैनात किया गया है.

गोरखपुर सीट पर 23 उम्मीदवार
वर्ष 2012 में इन सीटों में से सपा ने 27, बसपा ने 9, भाजपा ने 7 तथा कांग्रेस ने 4 सीटें जीती थी, जबकि दो सीटें अन्य के खाते में गई थीं. इस चरण में सबसे ज्यादा 23 उम्मीदवार गोरखपुर सीट पर मैदान में हैं, जबकि सबसे कम सात-सात उम्मीदवार आजमगढ़ सदर तथा मउ जिले की मोहम्मदाबाद गोहना सीट से किस्मत आजमा रहे हैं. इस चरण की मतदान प्रक्रिया पर नजर रखने के लिए 2007 माइक्रो आब्जर्वर, 1221 सेक्टर मजिस्ट्रेट, 123 जोनल मजिस्ट्रेट तथा 139 स्टैटिक मजिस्ट्रेट तैनात किए गए हैं. इसके अलावा 48 जनरल आब्जर्वर, 12 व्यय प्रेक्षक तथा पांच पुलिस पर्यवेक्षकों की भी तैनाती की गई है.

आदित्यनाथ और कलराज मिश्र की प्रतिष्ठा दांव पर
गौरतलब है कि सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र आजमगढ़ में विधानसभा की 10 सीटें हैं. वर्ष 2012 में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में सपा ने इनमें से नौ सीटें जीती थीं, हालांकि मुलायम ने इस बार आजमगढ़ में एक भी रैली को संबोधित नहीं किया है. छठे चरण में सांसद आदित्यनाथ के अलावा केन्द्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री कलराज मिश्र की प्रतिष्ठा भी दांव पर होगी.छठे चरण में होने वाले चुनाव में प्रमुख उम्मीदवारों में बसपा छोड़कर भाजपा में आए स्वामी प्रसाद मौर्य (पडरौना), भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सूर्य प्रताप शाही (देवरिया), पूर्व मुख्यमंत्री राम नरेश यादव के बेटे श्याम बहादुर यादव (फूलपुर पवई), सपा छोड़कर बसपा में शामिल हुए पूर्व मंत्री अम्बिका चौधरी (फेफना) और नारद राय (बलिया सदर) शामिल हैं. इसके अलावा मउ से बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी, उनके बेटे अब्बास अंसारी (घोसी) की परीक्षा भी इसी चरण में होगी. प्रदेश का विधानसभा चुनाव सात चरणों में होगा. आखिरी चरण का चुनाव आठ मार्च को होगा. नतीजे 11 मार्च को आएंगे|