यूपी की 37 फीसद विवाहित महिलाएं घरेलू हिंसा की शिकार, 46 प्रतिशत बच्चे कुपोषण के

73
SHARE

सूबे की 37 फीसद विवाहित महिलाएं घरेलू हिंसा की शिकार हैं। महिलाओं के साथ यह हिंसा उनके पतियों द्वारा की गई है। इसमें शारीरिक व यौन हिंसा दोनों शामिल हैं। खास यह है कि घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं में से मात्र 15 फीसद ने ही इसे रोकने के लिए किसी प्रकार की सहायता ली है।

यह आंकड़े नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-4 (2015-16) में निकलकर आए हैं। शुक्रवार को इसके यूपी के आंकड़े जारी किए गए। इसमें देखा गया कि यूपी में महिलाओं की प्रजनन दर में गिरावट तो आई है।

लेकिन यह अभी भी सबसे ज्यादा है। प्रदेश में महिलाओं की प्रजनन दर 2.7 बच्चे हैं जबकि राष्ट्रीय औसत 2.1 बच्चों का है। मुंबई के अंतरराष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान के प्रोफेसर व सर्वे के समन्वयक एसके सिंह ने बताया कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में प्रजनन दर प्रति महिला तीन बच्चे हैं। शहरी क्षेत्रों में प्रजनन दर राष्ट्रीय औसत के बराबर यानी 2.1 है। उन्होंने बताया कि पिछले 10 वर्षों में प्रदेश में प्रजनन दर में 1.1 फीसद की गिरावट आई है।

प्रदेश में विवाहित 46 प्रतिशत महिलाएं गर्भ निरोधक साधनों का इस्तेमाल करती हैं। 10 वर्षों में इसमें केवल दो फीसद का ही इजाफा हुआ है। जबकि राष्ट्रीय औसत 54 प्रतिशत है। प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों की 42 प्रतिशत व शहरी क्षेत्रों की 56 प्रतिशत महिलाएं गर्भ निरोधक साधनों का इस्तेमाल करती हैं। स्त्री नसबंदी में पिछले 10 वर्षों में दो फीसदी की गिरावट आई है। वर्तमान में गर्भ निरोधक साधनों का इस्तेमाल करने वाली महिलाओं में 38 प्रतिशत ने नसबंदी कराई है।

सरकार की ओर से प्रसव अस्पतालों में कराने के लिए भले ही कई तरह के प्रोत्साहन अभियान चल रहे हैं इसके बावजूद अभी भी प्रदेश में 32 फीसद प्रसव घरों में हो रहे हैं। 46 प्रतिशत गर्भवती महिलाओं ने पहली तिमाही में अस्पताल में प्रसवपूर्व देखभाल सेवा प्राप्त की।

सर्वे करने वाली डीम्ड यूनिवर्सिटी अंतरराष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान के प्रोफेसर बी. पासवान ने बताया कि यूपी में हर 16 बच्चों में से एक बच्चे की मृत्यु एक वर्ष के भीतर हो जाती है। जबकि 13 बच्चों में एक बच्चे की मौत पांच वर्ष से पहले हो जाती है। उन्होंने बताया कि 10 वर्षों में टीकाकरण की संख्या काफी बढ़ी है। इस कारण प्रदेश में शिशु मृत्यु दर में सुधार हुआ है।

यूपी के 46 प्रतिशत बच्चे कुपोषण का शिकार हैं। यह अपनी उम्र के अनुसार लंबाई व वजन में कम हैं। इसका कारण अच्छा खान-पान न मिलना है। पांच साल तक के बच्चों में 63 फीसद में खून की कमी मिली है। प्रदेश के एक चौथाई महिलाएं व पुरुष कुपोषण से पीडि़त हैं। वहीं, 52 प्रतिशत महिलाएं खून की कमी यानी एनीमिया से ग्रसित हैं।

प्रदेश में अभी भी एचआईवी-एड्स को लेकर जानकारी का अभाव है। केवल 47 प्रतिशत महिलाएं ही यह जानती हैं कि कंडोम के उचित इस्तेमाल से एचआईवी-एड्स की रोकथाम की जा सकती है।

प्रदेश में महिलाओं की सामाजिक स्थिति में थोड़ा सुधार हुआ है। सूबे की 55 फीसद महिलाओं के बैंकों में खाते हैं। इनका उपयोग वे स्वयं करती हैं। 33 प्रतिशत महिलाएं ऐसी हैं जो अकेले या फिर संयुक्त रूप से घर की मालकिन हैं। 26 प्रतिशत महिलाएं अकेले या संयुक्त रूप से किसी अन्य के साथ जमीन की मालकिन हैं। 37 प्रतिशत महिलाओं के पास अपना मोबाइल फोन हैं जिसका वे स्वयं इस्तेमाल करती हैं।

source-DJ