ग्रेटर नोएडा में इमारत ढहने से 3 की मौत, DM से शिकायत के बावजूद नहीं हुई कार्रवाई, बचाव कार्य जारी

22
SHARE

ग्रेटर नोएडा में मंगलवार रात दो इमारतें ढह जाने से तीन लोगो की मौत हो गयी है, अभी कुछ लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है. बताया जा रहा है कि ये बिल्डिंग अवैध रूप से बिना कोई नक्शा पास कराये ही बनवाई जा रही थी. पुलिस ने इस मामले में बिल्डर गौरीशंकर दुबे समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है.

मौके पर केंद्रीय मंत्री डॉ. महेश शर्मा भी मौके पर पहुंचे और रेस्क्यू ऑपरेशन का जायजा लिया. उन्होंने कहा कि दोषियों को किसी भी सूरत में छोड़ा नहीं जाएगा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी मामले का संज्ञान लेते हुए जिला प्रशासन को राहत और बचाव का निर्देश दिया है.

शाह बेरी गांव में मंगलवार रात आठ बजे के क़रीब ढहने वाली इमारतों में से एक निर्माणाधीन थी जबकि दूसरी वाली दो साल पहले बनकर तैयार हुई थी. अभी तक आधिकारिक आंकड़ा नहीं मिल पाया है कि यहां कितने लोग रहते थे और कितने लोग मलबे के नीचे दबे हो सकते हैं.

प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि मलबे के नीचे दबे हुए लोगों की संख्या 10 से भी कम हो सकती है.

इमारतों के ढहने की वजह क्या थी, अभी तक यह पता नहीं चल पाया है. इमारतों के मालिक के बारे में भी अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई है. घटनास्थल पर प्रशासन और एनडीआरएफ़ की टीम के सदस्य बचाव और राहत कार्य में लगे हुए हैं.

मलबे के नीचे फंसे लोगों का पता लगाने के लिए स्निफ़र डॉग्स की मदद भी ली गई है मगर अभी तक किसी के ज़िंदा होने के संकेत नहीं मिले हैं.

केंद्रीय संस्कृति मंत्री और गौतम बुद्ध नगर के सांसद महेश शर्मा भी यहां पहुंचे. मौक़े पर मौजूद अधिकारियों का मानना है कि दोनों इमारतों के मलबे को हटाने में कम से कम छह घंटों का समय लग सकता है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं.

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने भी कहा है कि घटना के लिए दोषी पाए जाने वालों के ख़िलाफ़ कठोर कार्रवाई की जाएगी.