2500 पुलिस जवानों और 16460 प्राथमिक शिक्षकों की होगी भर्ती

56
SHARE

यूपी के प्राथमिक स्कूलों में 16460 शिक्षकों की भर्ती करने की तैयारी शुरू हो गई है। इनमें 12460 सामान्य जबकि 4000 उर्दू शिक्षक होंगे। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की मंजूरी के बाद गुरुवार को शासनादेश जारी होने की संभावना है। फिलहाल 16460 पदों पर भर्ती की तैयारी है। मुख्यमंत्री ने कुछ समय पूर्व परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में उर्दू भाषा के 4000 शिक्षकों की भर्ती की घोषणा की थी।। चूंकि नई भर्ती के लिए उर्दू शिक्षकों के पद उपलब्ध नहीं थे इसलिए बेसिक शिक्षा परिषद ने 12 हजार शिक्षकों की भर्ती के लिए पहले जो प्रस्ताव शासन को भेजा था, उनमें से 4000 पदों को उर्दू शिक्षक के पद में परिवर्तित करने की सिफारिश की गई थी। प्रस्ताव के मुताबिक शासन ने 4000 पदों को उर्दू शिक्षकों के पद में बदलने की मंजूरी दे दी है। हाल ही में प्राथमिक स्कूलों के शिक्षकों के प्रमोशन हुए थे। प्रमोशन की वजह से भी परिषदीय स्कूलों में कुछ पद रिक्त हुए थे। इन्हें मिलाकर अब कुल 16460 पदों पर भर्ती की तैयारी है|

शिक्षकों के सामान्य पदों पर भर्ती के लिए अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी) उत्तीर्ण बीटीसी/विशिष्ट बीटीसी अभ्यर्थी अर्ह होंगे। वहीं उर्दू शिक्षकों की नियुक्ति के लिए उर्दू बीटीसी योग्यताधारी या 11 अगस्त 1997 से पहले के मोअल्लिम-ए-उर्दू उपाधिधारकों और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से डिप्लोमा इन टीचिंग उत्तीर्ण करने वाले उन अभ्यर्थियों की नियुक्ति की जाएगी जो भाषा शिक्षकों के लिए आयोजित अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी) उत्तीर्ण कर चुके होंगे|

समय पर पुलिस सहायता मिलने की उम्मीद जगाने वाली यूपी-100 आपातकालीन सेवा में इंस्पेक्टर से सिपाही तक की संख्या में इजाफा होगा। इस योजना में सेवा करने के ख्वाहिशमंद जवानों से 17 दिसंबर तक प्रार्थना पत्र लिए जाएंगे। ऑनलाइन आवेदन भी किया जा सकता है। यूपी-100 में कार्यरत इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर को 25 सौ और दीवान व सिपाही को प्रत्येक माह दो हजार रुपये अतिरिक्त का भुगतान होता है। पुलिस प्रवक्ता रामकुमार ने बताया कि यूपी-100 का विस्तार हो रहा है। इसमें जवानों और अधिकारियों की संख्या बढ़ाने के लिए 17 दिसंबर तक आवेदन मांगे गए हैं|