दिल्ली के बवाना में अवैध पटाखा फैक्ट्री में भीषण आग लगने से अब तक 17 लोगों की मौत, मालिक गिरफ्तार

40
SHARE

शनिवार शाम बाहरी दिल्ली के बवाना औद्योगिक क्षेत्र में एक अवैध पटाखा फैक्ट्री में भीषण आग लगने से 17 लोगों की मौत हो गई. इसमें 9 महिलाएं और 1 नाबालिग लड़की भी शामिल है, जबकि 7 पुरुषों की भी मौत हो गई है. वहीं इस हादसे में 1 महिला और एक पुरुष बुरी तरह झुलस गए.

दिल्ली सरकार ने इस घटना की जांच का आदेश दिया है. दिल्ली सरकार ने मृतकों के परिवारों को 5-5 लाख रुपये और घायल हुए लोगों के परिवारों को 1-1 लाख रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया है.

इस मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी फैक्ट्री मालिक मनोज जैन को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के मुताबिक मनोज ने प्लास्टिक के दाना बनाने की फैक्ट्री के नाम पर लाइसेंस लिया था लेकिन वो बाहर से पटाखे मंगाकर यहां उनकी पैकिंग करवाता था. फैक्ट्री में हादसे के वक्‍त काफी ज्यादा पटाखे थे इसलिए आग एकदम फैली और सभी इसकी चपेट में आ गए.

पुलिस और दमकल विभाग के मुताबिक शनिवार शाम 6:21 बजे उन्हें कॉल मिली कि बवाना इंडस्ट्रियल एरिया के सेक्टर 5 में एक फैक्ट्री में आग लगी है ,जैसे ही मौके पर दमकल की करीब 15 गाड़ियां पहुंची और स्थानीय पुलिस पहुंची तो पता चला कि ये फैक्ट्री तीन मंजिला है और आग तीनों फ्लोर तक पहुंच चुकी है. दमकल विभाग ने करीब 1 घन्टे की मशक्कत के बाद आग पर तो काबू पा लिया लेकिन उस वक़्त फैक्ट्री में जो भी था वो आग की चपेट में आ गया. कुछ लोग अपनी जान बचाने के लिए ऊपर से कूद गए.

कई लोग इतनी बुरी तरह जल गए कि उनके शव की पहचान तक नहीं हो सकी है. ज्यादातर मृतक यूपी और बिहार के रहने वाले हैं. 13 लोगों की मौत पहली मंजिल, 3 लोगों की ग्राउंड फ्लोर और एक बेसमेंट में हुई। मृतकों के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए रोहिणी के डॉ.अंबेडकर हॉस्पिटल की मोर्चरी में रखा गया है.

पुलिस उपायुक्त (रोहिणी) रजनीश गुप्ता ने बताया कि मनोज जैन नाम के एक व्यक्ति को पकड़ा गया है. एक अन्य पुलिस अधिकारी ने बताया कि जैन एक अन्य व्यक्ति के साथ साझेदारी में यह फैक्ट्री चला रहा था लेकिन इस बात की जांच की जा रही है उसने यह जगह खरीदी थी या इसे किराए पर लिया था.

दिल्ली दमकल सेवा के निदेशक जी सी मिश्रा ने बताया कि इस इमारत में बेसमेंट, भूतल और दो मंजिलें हैं. उन्होंने बताया, ‘‘एक शव बेसमेंट से बरामद किया गया, तीन भूतल से और 13 शव पहली मंजिल से बरामद किए गए. खुद को बचाने के लिए एक व्यक्ति दूसरी मंजिल से कूद गया और उसे फ्रैक्चर हुआ है.’’ मिश्रा ने बताया कि आग पर रात 9:20 बजे तक काबू पा लिया गया लेकिन तलाश और बचाव अभियान चल रहा है.

उन्होंने कहा, ‘‘हम कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. हमारे पास अभी इस बारे में कोई निश्चित जानकारी नहीं है कि आग लगने के समय इमारत में कितने लोग मौजूद थे.’’ पुलिस ने बताया कि लोग आग लगने से या तो झुलस गए या दम घुटने से उनकी मौत हो गई.