सर्जिकल स्ट्राइक: इंटरनल सिक्योरिटी के लिए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बुलाई हाई लेवल मीटिंग

5
SHARE

पीओके में भारत द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आज केंद्रीय गृहमंत्री ने आतंरिक सुरक्षा पर आला अधिकारियों की एक बैठक बुलाई है। इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार समेत सभी अाला अधिकारी हिस्सा लेंगे। यह बैठक सुबह 11 बजे होनी है। वहीं माना जा रहा है कि इस मसले पर आज प्रधानमंत्री केबिनेट कमेटी और सिक्योरिटी (सीसीएस) की बैठक भी बुला सकते हैं। गौरतलब है कि बुधवार रात सेना के पैरा कमांडो ने पहली बार सीमा पार करते हुए पीओके में दो किलोमीटर अंदर घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक (लक्षित हमला) की और आतंकियों के सात कैंप तबाह कर दिए। इस कार्रवाई में 38 आतंकी और उनकी सुरक्षा में तैनात पाक सेना के दो जवान ढेर हो गए थे।

उड़ी हमले के 10 दिन बाद सरकार और सेना द्वारा दिए गए इस मुंहतोड़ जवाब का पूरे देश और सभी राजनीतिक दलों ने समर्थन करते हुए सेना को बधाई दी है। पाकिस्तान द्वारा किसी दुस्साहस की आशंका को देखते हुए एहतियात के तौर पर उत्तर-पश्चिमी सीमा पर हाई अलर्ट जारी कर तीनों सेनाओं को तैयार रहने का निर्देश दिया गया है।

PoK में कार्रवाई के बाद दिल्ली में अलर्ट, IB ने जताया अातंकी हमले का खतरा

इसी के चलते एलओसी के आसपास के 200 गांव खाली कराए गए हैं। पंजाब, राजस्थान व गुजरात में सेना, वायुसेना व बीएसएफ को हाई अलर्ट कर दिया गया है। कश्मीर से गुजरात तक जवानों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं।

पढ़ेंः जानें, दुनिया में कहां-कहां दिया गया प्रमुख सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम

पाक डीजीएमओ को दी सूचना

डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने गुरुवार सुबह विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ऑपरेशन के कामयाब होने की सूचना दी। उन्होंने बताया कि कार्रवाई पुख्ता खुफिया सूचना के आधार पर की गई। बाद में इसकी सूचना पाक डीजीएमओ को भी दी गई। उन्हें बताया गया कि आतंकी भारत के नागरिकों व बड़े शहरों को नुकसान पहुंचाने की योजना बना रहे थे और वे घुसपैठ के लिए तैयार बैठे थे। उनके सफाए के लिए सर्जिकल ऑपरेशन को अंजाम दिया गया। उम्मीद है पाक सेना क्षेत्र को आतंकवाद से मुक्त करने के 2004 के अपने वादे के अनुसार इसमें सहयोग करेगी। लेफ्टिनेंट जनरल सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना का आगे कार्रवाई का इरादा नहीं है, लेकिन सेना किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

कुपवाड़ा, पुंछ से सटी सीमा पार कार्रवाई

केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने बताया कि कार्रवाई जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा और पुंछ से सटी एलओसी के पार 5-6 स्थानों पर कार्रवाई की गई। इसमें सेना को कोई नुकसान नहीं पहुंचा। चौथी व नौवीं बटालियन के थे स्पेशल कमांडो भारत ने बुधवार आधी रात सर्जिकल ऑपरेशन शुरू किया जो गुरुवार सुबह 4.30 बजे तक चला। कार्रवाई को जम्मू-कश्मीर में स्थित सेना की उत्तरी कमान के चौथी व नवीं बटालियन के स्पेशल फोर्स के पैरा कमांडो ने अंजाम दिया। करीब 4 घंटे चली इस कार्रवाई में आतंकियों को भारी नुकसान पहुंचा है।