राजा भैया अपनी सियासी पार्टी बनाने की तैयारी में

60
SHARE

आगामी लोकसभा चुनाव हर दिन बीतने के साथ करीब आते जा रहे हैं और राजनीति में सक्रिय हर नेता इसके लिए अपनी तैयारी को धार देने में लगा हुआ है, इसी कड़ी में यूपी के बाहुबली नेताओं में शुमार और पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया भी अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने की तैयारी में हैं। राजा भैया 1993 से ही अपने विधानसभा क्षेत्र कुंडा से निर्दलीय चुनाव जीतते आ रहे हैं लेकिन अब वह अपनी सियासत का विस्तार करना चाहते हैं।

खबरों के मुताबिक राजा भैया ने नई पार्टी बनाने की दिशा में गंभीरता से मंथन शुरू कर दिया है और अपने करीबियों के साथ बैठकों में राजनीतिक दल बनाने को लेकर चर्चा भी शुरू कर दी है। 26 साल की उम्र में राजनीति में कदम रखने वाले राजा भैया अगले महीने 30 नवंबर को अपने राजनीतिक जीवन के 25 साल पूरे कर रहे हैं और समझा जा रहा है कि तब तक वह राजनीतिक दल की घोषणा कर सकते हैं।

राजा भैया ने राजनीतिक पार्टी बनाने के बारे सोचना तब से ही शुरू कर दिया है जब प्रतापगढ़ ग्राम प्रधान संघ की तरफ से उनसे ऐसी मांग उठाई गई। प्रतापगढ़ और आसपास के जिलों में प्रधान संघ की ओर से राजा भैया के सर्वे वाले पोस्टर लगाए गए और इनमें पूछा गया था कि क्या राजा भैया को अब नई राजनीतिक पार्टी बना लेनी चाहिए?

राजा भैया का प्रभाव न सिर्फ अपनी विधानसभा सीट पर बल्कि प्रतापगढ़ के आसपास के जिलों तक भी है। वह कल्याण सिंह, मुलायम सिंह और अखिलेश यादव सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं और उत्तर प्रदेश की राजनीति का बड़ा चेहरा हैं। उन्हें राजपूत समाज का भी नुमाइंदा समझा जाने लगा है, लिहाजा इस समाज के कई नेता राजा भैया और उनकी पार्टी से उम्मीदें लगाए बैठे हैं। ऐसे में राजा भैया की पार्टी को राज्यव्यापी विस्तार सहज ही मिल जाने की संभावना है।