रांची में टीम इंडिया सीरीज सील करने के इरादे से मैदान पर उतरेगी, धोनी और विराट पर होगी नजर

10
SHARE

धर्मशाला, दिल्ली, मोहाली के बाद टीम इंडिया और न्यूजीलैंड टीम का कारवां अब रांची पहुंच गया है. जी हां भारत और न्यूजीलैंड के बीच पांच वनडे मैच की सीरीज का चौथा मुकाबला कप्तान महेंद्र सिंह के होमग्राउंड रांची में खेला जाएगा. ऐसे में एक बार फिर टीम और फैन्स की नजर ‘विराट’ जीत पर होगी. इस सीरीज में महेंद्र सिंह धोनी की टीम की कहानी यही रही है, अगर उसे सीरीज पर कब्जा जामाना है, तो बुधवार को होने वाले चौथे वनडे मुकाबले में जीत दर्ज करनी होगी. सीरीज में अबतक तीन वनडे खेले गए हैं. जिसमें टीम इंडिया दो और न्यूजीलैंड ने एक में जीत हासिल की है.

भारतीय टीम ने भले ही सीरीज पर दो-एक की बढ़त बना रखी हो. लेकिन सलामी जोड़ी रोहित शर्मा और अजिंक्य रहाणे का लगातार फेल होना हर किसी के माथे पर चिंता की लकीरें खींच रहा है. दोनों ही ओपनरों ने तीन मैचों में सिर्फ 108 रन बनाए और सबसे बड़ी ओपनिंग पार्टनरशिप 49 रन की रही है. ऐसे में कप्तान महेंद्र सिंह और डिप्टी विराट कोहली को फिर आक्रामक पारी खेलनी होगी. तभी टीम इंडिया सीरीज पर कब्जा जमा सकती है. रांची के मैदान पर विराट कोहली का रिकॉर्ड शानदार है. उन्होंने इस मैदान पर श्रीलंका के खिलाफ बेहतरीन 139 रनों की शतकीय पारी खेली थी और टीम इंडिया की जीत में बड़ा रोल निभाया था

रांची के मैदान पर टीम इंडिया ने अब तक तीन वनडे खेले हैं, जिनमें से उसे दो में जीत मिली है, जबकि एक मैच का नतीजा नहीं निकला. खास बात यह कि जीत वाले दोनों ही मुकाबलों टीम इंडिया ने लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत हासिल की. लेकिन रांची के राजकुमार महेंद्र सिंह धोनी ने अपने मैदान पर कोई बड़ी पारी नहीं खेल पाए हैं. शानदार फॉर्म में लौटे माही से अपने घरेलू मैदान पर एक बार फिर से जबरदस्त पारी की उम्मीद होगी. मोहाली में धोनी ने चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए बेहतरीन 80 रन बनाए थे.

दिल्ली वनडे जीतने के बाद ऐसा लग रहा था कि न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों में कुछ आत्मविश्वास आया है. लेकिन मोहाली में खराब प्रदर्शन ने कीवी टीम को मुश्किल में डाला है. पिछले मुकाबले में रॉस टेलर ने 44 रनों की पारी खेली थी. इसके अलावा कोई भी कीवी टीम का बल्लेबाज भारतीय गेंदबाजों के आगे अपना दम नहीं दिखा पाया था. बहरहाल रांची का मैदान सज चुका है एक बड़े घमासान के लिए हैं. टीम इंडिया सीरीज को सील करने की लिए जोर लगाएगी. तो न्यूजीलैंड की कोशिश होगी सीरीज को दो-दो की बराबरी पर लाने की. ऐसे में मुकाबला कांटे का होने की उम्मीद की जा रही.