यूपी में भाजपा ने 8 सीटों पर अब तक नहीं उतारे हैं उम्मीदवार, ओमप्रकाश राजभर की भी नजरें इन पर टिकीं

306
SHARE

लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान की तारीख बिल्कुल करीब आ चुकी है। यूपी में भाजपा ने अभी तक 70 उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है, दो सीटें उसने अपना दल एस को दे दी हैं लेकिन आठ सीटें ऐसी हैं जिन पर उम्मीदवारों का ऐलान अभी नहीं किया गया है। ये सभी सीटें पूर्वांचल की हैं। भाजपा इन सीटों पर उम्मीदवार तय करने में वक्त लग रहा है क्योंकि जीत पक्की करने के लिए जहां उम्मीदवारों के चयन में सटीक रणनीति की जरूरत है वहीं सहयोगियों और कुछ अपनों को भी संतुष्ट करने की चुनौती है।

इन 8 लोकसभा सीटों में गोरखपुर, देवरिया, संत कबीर नगर, घोसी, जौनपुर, भदोही, अम्बेडकर नगर और प्रतापगढ़ शामिल हैं। खबरों के मुताबिक इनमें से दो सीटें नई सहयोगी बनी निषाद पार्टी के पास जा सकती हैं, इनमें भदोही, अम्बेडकरनगर या जौनपुर हो सकती हैं।

गोरखपुर की सीट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बनी हुई है, उप चुनाव में इस सीट को सपा ने जीत लिया था, सपा से जीते प्रवीण निषाद अब भाजपा में शामिल हो चुके हैं लेकिन जीत पक्की करने के लिए पार्टी हर बिंदु पर विचार करे में लगी है। देवरिया सीट पर कलराज मिश्र के वयोवृद्ध होने माना जा रहा है कि शायद उन्हें टिकट ना मिले। ऐसे में उनकी जगह उनके जैसे बड़े कद के प्रत्याशी की तलाश भी की जा रही है।

संत कबीर नगर में सांसद शरद त्रिपाठी जूता कांड के बाद काफी चर्चा में रहे, पार्टी उन्हें टिकट देने, सीट बदलने या फिर नए नाम को लेकर भी मंथन में जुटी है वहीं घोसी की सीट को लेकर भी पेच काफी उलझा हुआ है। राज्य में भाजपा की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी जिन सीटों के लिए सबसे ज्यादा जोर लगाए हुए है उनमें घोसी संसदीय सीट भी है। भाजपा यहां से अपने या किसी सहयोगी दल से प्रत्याशी उतारने पर मंथन कर रही है वहीं सुभासपा ने गठबंधन बनाए रखने पर फैसला इसीलिए टाल दिया है क्योंकि वह इस सीट पर फैसला देख लेना चाहती है।

प्रतापगढ़ की सीट पिछली बार अपना दल ने जीती थी। इस बार यहां से रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया ने अपनी पार्टी से अक्षय प्रताप सिंह को प्रत्याशी बनाया है। राजा भैया की सवर्ण वोटरों खासतौर पर क्षत्रिय वोटरों पर पकड़ और पिछली मददों को देखते हुए प्रत्याशी उतारने के लिए बीजेपी नेतृत्व को सभी बातों पर विचार करना पड़ रहा है।