बिहार में बीजेपी ने 2019 के लिए खेला बड़ा दांव, सम्राट चौधरी समेत 4 उपाध्यक्ष और 5 नए मंत्री बनाए

15
SHARE

बिहार में बीजेपी के सहयोगी दल जहां आंखें तरेर रहे हैं और एक तरह से बीजेपी को धमकियां दे रहे हैं वहीं पार्टी ने अपने राज्य संगठन में बड़े बदलाव कर ऐसा दांव खेला है जिससे आवाज उठाने वालों की बोलती बंद हो सकती है। राज्य बीजेपी अध्यक्ष नित्यानंद राय ने अपनी कमेटी का विस्तार करते हुए 14 नये लोगों को शामिल किया है इनमें दो पूर्व मंत्री और दो विधायक शामिल हैं, इनमें जो नाम हैं जरा उन पर गौर करिए।

बिहार बीजेपी में राज्य के पूर्व मंत्री सम्राट चौधरी,  नीतीश मिश्रा, पूर्व सांसद पुतुल सिंह और  अनिल शर्मा को प्रदेश उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई है। इनके अलावा भारतीय जनता युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राजेश वर्मा, जगन्नाथ ठाकुर, गनौरी मांझी, भीम साहू और उमेश प्रसाद विश्वकर्मा को प्रदेश मंत्री बनाया गया है।  विधायक जीवेश मिश्र व मनोज शर्मा सहित अजीत चौधरी और निखिल आनंद को प्रदेश प्रवक्ता बनाया गया है, इनके अलावा संजय सिंह को अध्यक्षीय कार्यालय, प्रवास एवं कार्यक्रम विभाग का संयोजक बनाया गया है।

प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने अपनी टीम में नए लोगों को जगह देते वक्त सामाजिक समीकरण का खास ख्याल रखा है और पिछड़ों-अतिपिछड़ों का खास खयाल रखा गया है क्योंकि 2019 के लोकसभा चुनाव में इनका अहम रोल रहने वाला है। नए उपाध्यक्षों में सम्राट चौधरी पूर्व मंत्री शकुनी चौधरी के बेटे हैं, शकुनी चौधरी एक वक्त आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव के बहुत खास हुआ करते थे। शकुनी चौधरी और सम्राट चौधरी बिहार के बड़े वोटबैंक कुशवाहा-कोईरी समाज के बड़े नेता माने जाते हैं।

इसी तरह से नए उपाध्यक्षों में पुतुल सिंह पूर्व केंद्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह की पत्नी हैं और नीतीश मिश्रा पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्र के पुत्र हैं। इस तरह से अब प्रदेश बीजेपी में 14 उपाध्यक्ष, 5 महामंत्री और 15 मंत्री हो गए हैं। इसके अलावा

मनोज कुमार को औरंगाबाद जिले का अध्यक्ष मनोनीत किया है, अब तक वह अति पिछड़ा मोर्चा के जिलाध्यक्ष थे।