‘परिवार विवाद’ पर रामगोपाल ने कहा- मैं अब सपा में नहीं, अखिलेश को बनाएंगे सीएम

8
SHARE

समाजवादी पार्टी से छह साल के लिए निकाले जाने के एक दिन बाद रामगोपाल यादव ने सोमवार को मुंबई में कहा कि अखिलेश यादव के साथ मिलकर नयी पार्टी के गठन से जुड़ी अटकलों को खारिज कर दिया. उन्होंने अगले चुनाव के बाद अपने भतीजे को एक बार फिर मुख्यमंत्री बनाने की दिशा में काम करने की प्रतिबद्धता जताई.

उन्होंने कहा, ‘‘दूसरी पार्टी बनाने का सवाल ही पैदा नहीं होता. मैं दूसरी पार्टी क्यों बनाऊंगा? जिनके पास कुछ भी नहीं है, उन्हें दूसरे दल के गठन को लेकर सोचना चाहिए. अखिलेश के पास सबकुछ है. लोग उनके साथ हैं.’’ अखिलेश के प्रति एक बार फिर अपने समर्थन का इजहार करते हुए रामगोपाल ने सपा नेताओं शिवपाल यादव और अमर सिंह को उनके खिलाफ किसी जनसभा में आरोप लगाने और वहां से सकुशल लौटने की चुनौती दी.

'परिवार विवाद' पर रामगोपाल ने कहा- मैं अब सपा में नहीं, अखिलेश को बनाएंगे सीएम

रामगोपाल यादव ने कहा कि वह अब समाजवादी पार्टी में नहीं हैं. रामगोपाल मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के करीबी माने जाते हैं और वह पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव के चचेरे भाई हैं. मुंबई हवाईअड्डे पर उन्होंने संवाददाताओं से संक्षिप्त बातचीत में कहा, ‘‘मैं अब समाजवादी पार्टी में नहीं हूं.’’ वह रविवार को मुंबई में थे.

पार्टी के लोगों के निशाने पर हैं अखिलेश

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की तारीफ करते हुए रामगोपाल ने कहा कि किसी भी अन्य पार्टी में मुख्यमंत्री के खिलाफ व्यक्तिगत लड़ाई नहीं छेड़ी जाती है. यह निराशाजनक है कि अखिलेश पार्टी के ही लोगों के निशाने पर हैं. अगले चुनाव में मुख्यमंत्री के रूप में अखिलेश की वापसी सुनिश्चित करने को अपना मौजूदा लक्ष्य बताते हुए उन्होंने कहा कि इसको हासिल करने के लिए वह कोई कसर नहीं छोड़ेंगे.

भाजपा से सांठगांठ के आरोप में सपा से निकाले गए रामगोपाल

सपा को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से भाजपा के साथ कथित तौर पर सांठगांठ करने के आरोप में उन्हें रविवार को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था. इसके बाद रामगोपाल ने कहा था कि वह इस ‘धर्मयुद्ध’ में हमेशा अपने भतीजे अखिलेश के साथ रहेंगे. हालांकि उन्होंने पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव को अपना राजनीतिक गुरू बताया था.