डॉ.कफील को बहराइच में पुलिस ने पकड़ा,अस्पताल में बीमार बच्चों से मुलाकात के दौरान हंगामा

120
SHARE

गोरखपुर में बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज में पिछले साल आक्सीजन की कमी के कारण बच्चों की मौत के मामले के बाद चर्चा में आए बर्खास्त डॉक्टर कफील शनिवार को बहराइच में संक्रामक रोगों के शिकार बच्चों को देखने जिला अस्पताल पहुंचे थे। इस दौरान अस्पताल में हंगामा मच गया। डॉक्टरों के भारी विरोध और हंगामे के बीच पुलिस ने डॉ.कफील को हिरासत में ले लिया।

बताते चलें कि बहराइच जिले में पिछले डेढ़ महीने में संक्रामक रोगों से 71 बच्चों की मौत हो चुकी है और यह जिला आजकल इसी वजह से सुर्खियों में है। डॉ.कफील खान आज करीब एक दर्जन लोगों के साथ बहराइच जिला अस्पताल के चिल्ड्रन वार्ड में पहुंचे थे। बताया जा रहा है कि चिल्ड्रेन वार्ड में बच्चों का सही इलाज न करने का आरोप लगाते हुए वह खुद परामर्श देने लगे।

दोपहर दो बजे के कुछ देर बाद ही जिला अस्पताल के डॉक्टरों को चिल्ड्रेन वार्ड में डॉ.कफील के होने का पता चला। इसके बाद इस वार्ड के प्रभारी और अन्य लोग पहुंचे। इनका आरोप है कि डॉ कफील मरीजों के तीमारदारों को सही इलाज न किए जाने की बात कह कर भड़का रहे थे। जिला अस्पताल के डॉक्टरों और डॉ.कफील के साथ मौजूद लोगों के बीच अस्पताल से बाहर निकलने को लेकर हंगामा शुरू हो गया।

इसके बाद अस्पताल के डॉक्टर डॉ.कफील को पकड़कर सीएमएस डॉ. डीके सिंह के पास ले गए। इसकी खबर पुलिस और प्रशासनिक अफसरों तक पहुंचाई गई। सीएमएस डॉक्टर कफील से अस्पताल में घुसने की वजह पूछ रहे थे इसी दौरान सीओ सिटी और सीओ पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए।

डॉ.कफील का कहना था कि यहां बच्चों की मौत हो रही है और बीमार बच्चों का सही तरीके से इलाज नहीं किया जा रहा है और इसी कारण वह यहां आए थे। उनका तर्क था कि लापरवाही में जब उन्हें बर्खास्त किया गया तो यहां भी योगी सरकार ने कार्रवाई क्यों नहीं की। बहरहाल अस्पताल के स्टाफ के बढ़ते विरोध को देखते हुए पुलिस डॉ.कफील को अपने साथ ले गई।

बताते चलें कि गोरखपुर के बीआरडी कालेज में पिछले साल अगस्त में बच्चों की मौत मामले में लापरवाही के आरोप में तब चिल्ड्रेन वार्ड के प्रभारी रहे डॉ कफील को बर्खास्त कर दिया गया था और वह करीब 8 महीने जेल में रहने के बाद कुछ हफ्तों पहले ही जेल से जमानत पर रिहा हुए हैं।

डॉ.कफील बहराइच में बच्चों की मौत के मामले में शनिवार शाम 4 बजे प्रेस कांफ्रेंस भी करने वाले थे लेकिन पुलिस की गिरफ्त में आने से यह संभव नहीं हो सका। इधर डॉक्टर कफील के भाई ने आरोप लगाया गया है कि डॉ.कफील को शहर से 10 किलोमीटर दूर रखा गया है और किसी से मिलने नहीं दिया जा रहा। पुलिस के अधिकारी इस मामले पर कोई जानकारी देने से बच रहे हैं।