ओमप्रकाश राजभर बोले मेरी नहीं मानी तो 27 अक्टूबर को भाजपा से कर लेंगे हिसाब

70
SHARE

अपने बयानों से अक्सर योगी सरकार और बीजेपी को परेशानी में डालने वाले राज्य के कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर अब भाजपा से आरपार का हिसाब करने की तैयारी में हैं। राजभर ने इसके लिए 27 अक्टूबर का दिन तय किया है और कहा है कि बीजेपी को जल्द फैसला लेना होगा।

ओमप्रकाश राजभर का कहना है कि बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने उन्हें भरोसा दिलाया था कि पिछड़े वर्ग को मिल रहे आरक्षण में अतिपिछड़ों के लिए अलग से आरक्षण तय किया जाएगा। पिछड़ों को मिल रहे आरक्षण का वर्गीकरण किया जाएगा और अतिपिछड़ों तक आरक्षण का लाभ पहुंचे इसे सुनिश्चित किया जाएगा। राजभर के मुताबिक अमित शाह ने 6 महीनों में यह काम कर दिए जाने का भरोसा दिलाया था लेकिन ऐसा किया नहीं गया।

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर अब अपनी पार्टी के स्थापना दिवस पर 27 अक्टूबर को लखनऊ में बड़ी रैली करने जा रहे हैं और उनका कहना है कि उससे पहले बीजेपी ने आरक्षण को लेकर फैसला नहीं किया तो उनकी राह अलग और बीजेपी की राह अलग। इसका मतलब यह भी है कि राजभर योगी सरकार से इस्तीफा देकर बीजेपी से नाता तोड़ सकते हैं।

ओमप्रकाश राजभर योगी सरकार में राज्य की कानून-व्यवस्था की स्थिति से भी संतुष्ट नहीं हैं और उनका कहना है कि एनकाउंटर के नाम पर निर्दोष लोगों की हत्या की जा रही है। उनकी पार्टी के सूत्रों के मुताबिक इस बार राजभर अंतिम फैसला लेने का मन बना चुके हैं। हालांकि उनके विरोधियों का यह भी कहना है कि यह सिर्फ उनका एक स्टंट है और असल में वह बीजेपी के एजेंडे को आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं जिसके तहत पहले पिछड़ों को मिल रहे आरक्षण का बंटवारा कर उनमें फूट डालना है और फिर धीरे-धीरे आरक्षण को खत्म करना है। बहरहाल जो भी होगा वह इस महीने के आखिर तक साफ हो ही जाएगा।