अब अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव के समर्थकों में छिड़ी जुबानी जंग

72
SHARE

शिवपाल सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी से अलग अपना समाजवादी सेक्युलर मोर्चा और नया झंडा बनाया, इसके बाद अपने पैतृक गांव सैफई में भारी भीड़ जुटा कर शक्ति प्रदर्शन भी कर लिया। उन्होंने ऐलान कर दिया कि समाजवादी पार्टी से अब कोई सुलह नहीं होगी, इसके बाद से दोनों खेमों के बीच तलवारें खिंच गई हैं। अखिलेश और शिवपाल इन दोनों नेताओं ने तो फिलहाल कुछ नहीं कहा है, लेकिन इनके समर्थकों ने जुबानी जंग शुरू कर दी है।

अखिलेश यादव के करीबी उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्य मंत्री पवन पांडेय ने मंगलवार को फैजाबाद में शिवपाल सिंह यादव पर अखिलेश की तरक्की की राह में रोड़ा बनने का आरोप लगाया और शिवपाल को भाजपा का एजेंट तक बता डाला। इसका जवाब देने में शिवपाल समर्थकों ने भी देर नहीं की और लखनऊ में शिवपाल के सेक्युलर मोर्चा के प्रवक्ता अभिषेक सिंह और दीपक मिश्र ने प्रेस कांफ्रेंस कर आरोप लगाया कि शिवपाल की छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है और यह समाजवादी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के इशारे पर हो रहा है, यानी निशाने पर सीधे अखिलेश यादव भी आए।

शिवपाल समर्थक अभिषेक सिंह और दीपक मिश्र ने कहा कि फैजाबाद में शिवपाल के समर्थकों की भारी भीड़ देख कर पवन पांडेय हताश हो गए हैं और अनर्गल आरोप लगा रहे हैं। इन नेताओं ने कहा कि समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का गठन मुलायम सिंह यादव के आशीर्वाद से किया गया है। शिवपाल पहले भी मुलायम के स्वाभाविक राजनीतिक उत्तराधिकारी माने जाते रहे हैं, इसीलिए युवाओं का समूह उनके साथ खुलकर है।

बताते चलें कि इससे पहले शिवपाल सिंह यादव ने भी पूर्व राज्यमंत्री तेजनारायण पांडेय उर्फ पवन पांडेय पर कमीशनखोरी समेत तमाम आरोप लगाए थे। पवन पांडेय ने इसके जवाब में ही शिवपाल पर अखिलेश यादव की तरक्की की राह में रोड़ा बनने और भाजपा का एजेंट होने का आरोप लगाया था। उन्होंने ये भी कहा था कि सेक्युलर मोर्चा अगर मुलायम के आशीर्वाद से बना होता तो मुलायम समाजवादी पार्टी को मजबूत करने की बात क्यों कहते। उन्होंने कहा था कि शिवपाल अपने मोर्चा के राजनीतिक भविष्य के लिए झूठ बोलते हैं।